Corruption Free Campaign

SPSS members

SPSS members unite against corruption

SPSS’ Corruption Free village campaign has been in full swing in the Panchayats of Mahant Maniyari and Ratnauli. The basic objective of the campaign is to rid the Panchayats totally of corruptions – previously, we fought corruption in the MNREGS and have had significant success, now we have slowly extended to other schemes too.

The PDS is an interesting case. Sanjay Sahni, founder of SPSS, believes there are two main forces that contribute to robbing the villagers of nearly  50 % of their entitlements: one, government officials demand commissions from the Fair Price Shop (FPS) dealer. Two, the villagers themselves are forced to donate nearly 2-3 months of ration because the rich believe that the dealer must be adequately compensated. It is only now that we have managed to stand up to the dealer and the rich – we will not donate our rations and claim all 12 months’ worth. This has been achieved by us mazdoors rising as one. This is a continuous process, though – success and failures swap positions fairly quickly and gains are made often to be lost once more.

In the light of these uncertainties, the progress we have made appears to be even more significant – a significant proportion of us get 12 months’ worth grains now. We have also been trying to reduce corruption in the ICDS kendras – the Anganwadis. Corruption is rampant and, once more, the sevikas in the kendra have no choice but to pay commission to members above them (the supervisor/the CDPO). Consequentially, us applying pressure on the sevika results in serious backlash from officials higher up. The police get involved, not on our side, but on the side of the government and threaten us.  Fake FIRs have been filed against some of our members. Crucially, despite all the opposition, SPSS mazdoors haven’t stopped fighting.

Through our Small is Beautiful Campaign, we encourage mazdoors to stand up and be counted: mazdoors understand and live the by the tenet that each one of them is an activist in their own right (the central message of the Small is Beautiful idea) seriously. We have made inroads in a wide range of schemes, as detailed above. We also hope to spread our campaign to other blocks in Muzaffarput. Currently, we have had success in Rampur Mani in Sakra (Humara Ekta Manch) and Kharjam (Mazdoor Kisaan Ekta Manch) in Musahari.

देश में भ्रष्टाचार का लम्बा इतिहास रहा है लेकिन इसी संघर्स में  बिहार
के मुजफ्फरपुर जिला के  रतनौली और महंथ मनियारी में भ्रष्टाचार मुक्त
गांव केलिए संघर्स तेजी से चल रहा है इसी संघर्स में इन जगहों पर मनरेगा
को भ्रष्टाचार मुक्त किया गया है,  और अब इस पुरे  गांव को ही भ्रस्टाचार
मुक्त बनाने के लिए संघर्स चल रहा  है, यानि  सरकार के अन्य चीजो में
भ्रष्टाचार  को ख़त्म करने के लिए संघर्स जोरो पर है , खाद्य शुरछा कानून
के तहत गरीबो को राशन दिया जाता है इसमें पचास प्रतिसत भ्रष्टाचार है एक
तरफ सरकारी अधिकारी डीलर से घुस लेते है तो दूसरी तरफ गांव के कुछ  आमिर
वर्ग   द्वारा प्रति वॉर्स दो से तीन महीने की राशन और केरोसिन  ग्रामीण
से डीलर को दान दिलाया जाता है, लेकिन अब यहाँ के गरीब मजदुर  पूरा राशन
लेने केलिए संघर्स कर रहे है,  इसी तरह के भ्रस्टाचार आंगनवाड़ी में है इस
पर भी लोग संघर्स कर रहे है इस संघर्स से सरकार की भी पोल खुल रही है
केयू की इसकी कमिसन निचे से ऊपर तक जाता है इसी  कारन सरकार और उसके
अधिकारी इस संघर्स में सहयोग नहीं कर पा रही है उलटे डराने के लिए एसपी
एसएस के संयोजक संजय साहनी व उनके साथी को  फर्जी ऍफ़ आई आर कर डरा रही है
लेकिन बिना डरे लोग अपनी बल पर आगे बढ़ रहे है एसपी  एसएस का सोच यह भी है
की जैसे रतनौली और  महंथ मनियारी में मनरेगा में सुधर लाने में बिहार
मनरेगा वाच सक्छम है, उसीतरह अन्य जिलो व गांवो में हो इसके इसके लिए
एसपी एसएस स्माल इस बेउटीफुल कैम्पिंग कर के  लोगो को एकजुट करके उन्हें
भी अपने गांवो में छोटा संगठन बंनाने में मदद करते है जैसे मुजफ्फरपुर
जिले के ही सकरा ब्लॉक के रामपुरमाणि पंचयत में(हमारा एकता मंच ) मुशहरी
ब्लॉक के ख़ारज़म में ( मजदुर किसान एकता मंच ) डुमरी में ( ग्राम परिवर्तन
मंच ) इसी तरह के कई अन्य संगठन बने है जो अपने पैरो पर खरे होकर सरकार
से अपना हक़ लेने में सक्छम है  एसपी एसएस बिना किसी फण्ड के चल रहा है. इसीलिए एसपी एसएस का खर्च सिमित है
- SANJAY SAHNI, SPSS.

							

Post a Comment